12 जून, 2005

११वीं अनुगूँज- माज़रा क्या है?

मुझे बङी खुशी हूई जब अनूप जी ने इस अनुगूँज के लिए लिखा -- भाषा:- जिसमें आप लिख सकें । भाषाई दीवारों का एक माज़रा साफ होता दिखा ।Akshargram Anugunj

इस बार के अनुगूँज का विषय पर स्वामीजी की शैली में आपुन का मन करता है कि लिख डालूँ कि मुज़रा कैसा है । जिसमें नेताओं के चुनावी गीतों में नंगी जनता नृत्य करती है । चाटुकार ढोल बजाते हैं । इसी माहौल से दूर , कुछ मज़दूर फावङा लेकर डालर के खान में पैठ कर गये है , दे- दनादन समेट रहे है झोले में । मगर मेरे को तो मन करता है कि आशा ही जीवन है पर पुनर्बहस प्रारंभ कर दूँ और माज़रा के तह में जाकर खोज-बीन करूँ ।

विषयवस्तु को जरा तटस्थ नजरिये से देखें तो यह आशावादी और निराशावादी विरोधाभास किसी भी भौगोलिक इकाई और कालखंड में दृष्टिगोचर होगा । अब यह चिंतनशील मस्तिस्क पर निर्भर करता है कि वह किस तरह से सोचता है । और सोचने का यह ढंग उसके सामाजिक – आर्थिक परिवेश से संचालित होता है ।

भारतीय परिपेक्ष्य में हमारी अपनी पहचान सदियों पुरानी है । मगर अब थोङा सोचना शुरु करें आजादी के बाद से , जब से इंडिया नाम की अवधारणा उत्पन्न हुई, और हमारे सोच पर हावी भी होती चली गयी । एक वैचारिक विरोधाभास का उदय हुआ, घुंघट में लिपटी भारत माता और खुले बाजार में बिकती मेड इन इंडिया के बीच। हिन्दुस्तान की अपनी सलज्ज संस्कृति और पश्चिम की खुली संस्कृति के बीच । गाँव के हाट बाजार और विश्व बाजार के बीच । कारण तो कई हैं मगर एक स्पष्ट है मेरे सामने , हमारे गिरगिटिया रंगों के खद्धरधारी नेताओं में दूरदर्शिता की भारी कमी । आखिर विदेशी दुकानदार, वामपंथी धक्का-मुक्की के बाद अपनी दुकान लगा ही दिँए । दो-चार जो नेता ठीक-ठाक भी हैं , बाकी की हल्ला पलटन को संभालने में काफी उर्जा बेकार कर रहे हैं । आख़िर करना तो उन्हें भी वही पङता है जो बुद्घिवर्ग काफी पहले से कहते रहते हैं । चाहे विदेशी निवेश की बात हो या सर्वशिक्षा अभियान या सी-डेक के हिन्दी कंप्युटिंग की प्रयासों को निःशुल्क करना हो । बस दूरदृष्टि की अभाव में , अनूपजी माज़रा यहीं अटक जाता है । जिसका खामियाजा हमारी जनता को भुगतना पङता है ।

हमारे इंडिया साईनिंग की बोर्ड जमीन पर धूल चाटती नजर आती है । इस बोर्ड के टुटे टीन को कुछ बच्चे पा जाने के आतुर रहते हैं जिसे उनके झुग्गी-झोपङे के टुटे किनारे पर लगाया जा सके । अशिक्षितों की टोली से उभरते हैं छोटे मोटे नेता, असंतुष्टि का आक्रोश , क्षेत्रवाद की अवधारणा । और इधर छोटे शहरों के मामलों में लोग प्रारंभिक समस्याओं जैसे बिजली, पानी, आवास में इतने उलझे रहते हैं कि वैश्विक स्तर पर सोचना बेवकुफी प्रतीत होता है ।

कुछ लोगों को फिर जब बुद्घि आयी तो हम भी बाजार बनाने में लग गये । अपनी कारीगरी बाहर वालों को भी पसंद आने लगी। अपने लोग कुछ स्वदेश तो कुछ परदेश में ही मेहनत से झंडा गाङ कर जन-गण-मन की धुन बजाने लगे । मेहनती और भी मेहनत कर पैसा कमाने की सोचते हैं चाहे कमाने की जगह विदेश हो या स्वदेश । जुझारु निकल पङते है किसी अनजानी राह पर , किस्मत आजमाने के लिए । उन्हें समय कहाँ कि दुसरों का दोष-गुण निकालते फिरें । लेकिन माज़रा रह जाता है कि गाँव की स्कुल में चार टूटी कुर्सियों को बदलने की जिम्मेदारी क्या कमाऊ छात्र या मास्टर नाम के किसी सरकारी नौकर की है ।

कुछ लोगों की राजनीति की यात्रा हो या पारिवारिक ट्रेन की यात्रा , सीट रिजर्व है , सो उनकी है , सो खा रहे है गैरकानुनी भेंडर की मुंगफली । खाया और गिरा दिया छिलका ट्रेन के फर्श पर । सीट उनकी है मगर फर्श तो सबका है न, यह बात बहुतों पढे लिखे को भी गवारा नहीं है । माज़रा है कि सोच विस्तृत होनी चाहिए । मगर यह बात प्रायोगिक तौर पर और भी जिम्मेदारीपूर्ण हो जाती है जब कि सोचनेवाला आर्थिक एवं सामाजिक रुप से संबल है । मानसिक संबलता भी अगर साथ हो जाये तो फिर क्या कहने । फिर तो डर काहे का ।

गाँव में ठंडा मतलब कोका-कोला से लस्सी की ठंडक थोङे ही कम हो जाएगी । चाहो तो आप भी लस्सी के स्वाद को डब्बे में बंद करके बेच दो । विश्व मेरा गाँव है , यही मेरा बाजार है । आधार सही रहे तो बस आत्मवत् सर्वभूतेषु की माज़रा है । स्वंय की शक्ति को पहचाने बिना दुसरे के पाँव खींचना कोई बुद्धिमानी थोङे ही है ।

फिर भी संचार क्रांति के कारण अनामंत्रित रुप से विश्वव्यापी विविधताओं में एक समानता सी आ रही है । यह परिवर्तन मुख्यतः दिख रहा है समाज के उस वर्ग में , जो इस क्रांति में सक्रिय या असक्रिय रूप से भाग ले रहा है । हम ग्राहकों की नब्ज की पकङ भी बङी आसान है । करोङो जनसंख्या के पास करोङों मिनट हैं बेकार के । क्योंकि सास भी कभी बहु थी इसलिए देशी-विदेशी चैनलों बखुबी दिखा रही है घर-घर की चुगलकहानी । रिमोट के लिए झगङा फिर शुरू कयोंकि घर के मालिक परेशान हैं राजनैतिक चर्चा सुनने के लिए । यह मत भुलिए कि ठीक उसी समय हो रहा है क्रिकेट का टेस्ट मैच , सो देश के कर्णधार टी वी के पास से उठने को तैयार नहीं । आखिर देश के हार जीत का प्रश्न है । मशीनीकरण के भाग्य विधाता , गोरे शासक, दोनों देशों के बीच चाहरदीवारी खङी कर, दोनों भाईयों को खेलने के लिए क्रिकेट का बल्ला दे गये । बेटा आपस में ख़ुब खेलता रह और फिर लङता रह । यह रिमोट तो बस नमुना है देश के रिमोट का । इसी तरह दिन पर दिन बीत गये । हमारी दीन-हीन जनता के लिए सही सोच का समय नहीं निकल पाता है ।

अब इस निरीह जनता को सिर्फ दोष देना बुद्धिमानी नही होगी , आखिर हरेक मनुष्य के मस्तिस्क को भी कुछ चाहिए न, उसका स्वभाविक खुराक , उसकी दुसरों द्वारा आदर की माँग । और यह आती है कुछ जिम्मेदारियों के निर्वहन से । यह नहीं हो पा रहा है देशवासियों में यहाँ । और यहीं गलती हो रही रही है हमसे और माज़रा नाटकीय होता जा रहा है ।

तब उपाय एक ही है , प्रत्येक स्तर पर परिश्रमी को प्रोत्साहन चाहिए । रुढ़ीवादी विचारधाराओं का परिष्करण चाहिए । अब समय , भौगोलिक क्षेत्र और विचारों की सीमाएँ बदल गयी है । सारा विश्व एक गाँव बन रहा है । चाहो तो महाजन से सुद पर रुपये लो या फिर निकल पङो कमर पर गमछा बाँधकर अपने हाथ जग्गनाथ मानकर । अक्षरग्राम के चौपाल पर कुछ कहो । कुछ पुचकारो अगर सही रास्ते हमारी साईबर बैलगाङी चल रही है तो । अगर गलती भी हो रही है तो दया का पात्र भी मत बनाओ । कुछ करो अपने लिए , अपनों के लिए । अगर नहीं कर पा रहे और उच्चासन की तुम्हारी कुर्सी से कुछ सही रास्ता दिखता है तो वही बता दो । विचारों के मध्य पारदर्शिता और समर्पँण का अभाव ही माज़रा है , वरना कमोवेश दोनों अपनी- अपनी जगह सही है ।

डरो मत कि क्या मैं का अस्थित्व समाप्त होता जाएगा इस तरह से । पचपन साल से उपर हो गये आजाद हुए और हमारी अपनी पहचान बनाए रखने के प्रयत्न में हम सफल हैं । इसी छोटे से अनुभव से हमें लग रहा है कि हमारी भारतीयता की मुलभूत पहचान नहीं खो रही है । और इसका कारण है हमारी विभिन्न संस्कृतियों को आत्मसात् करने की विलक्षण क्षमता । परिवर्तन संसार का नियम है । देश-काल भी क्या अछुता रह सकता है । ज्ञान एवं शक्ति का समन्वक उपयोग किसी लघु ईकाई पर भारी पङता है । और इसी तथ्य के कारण, परिवर्तन के लिए प्रभावी देश अन्य छोटे देशों का भाग्य निर्णय करते हैं । हमारे पास ज्यादा पैसा नहीं है , सही तरीके से पैसा कमाने में बुराई क्या है । हमारे पास तकनीक नहीं है , अभी यही थोङी कमी रह गयी है । आधी जनसंख्या की भी सक्रियता को सुनिश्चित करो , काम आसान हो जाएगा । माज़रा बहुत गंभीर होने से पहले ही वातानुकूलित मिटिंग में निर्धारित करो करो तपती धूप में पसीना बहाने वाले के लिए कितनी सरकारी दर से मजदुरी मिलनी चाहिए । इधर माता के संतान, मत मारो कन्या भ्रुणों को , कल कन्याओं की भारी कमी हो जाएगी तो उलटा दहेज देकर खुशामद करते रहना होगा ।
माज़रा है कि दुनिया गोल है । यूँ कहें कि ये माज़रा ही गोल-मटोल है । सोचते जाओ उलझते जाओ । उलझन से बचने का उपाय एक ही है । दिलो-दिमाग से सोचो और बढते रहो आत्मा की पुकार पर । कोई भी परेशानी झट से सुलझ जाएगी ।

1 टिप्पणी

At 4/01/2007 06:13:00 am, Anonymous बेनामी कहते हैं...

Best flower for you girlfriend
BEST FLOWER

soma or here phentermine

 

एक टिप्पणी भेजें

इसकी कड़ी

एक लिंक बनाएँ

<< चिट्ठे की ओर वापस..